Advertisement

Breaking News
recent

विज्ञानियों ने बनाया सोलर पंपिंग सिस्टम, आसान होगी सिंचाई


गूगल से ली गयी तसवीर

जिन किसानों का खेत नदी या तालाब के किनारे है और वे सस्ती दर पर सिंचाई करना चाहते हैं, तो आपके लिए एक खुशखबरी है।

डॉ राजेंद्र एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी ने एक नयी तरह का सिंचाई सिस्टम विकसित किया है जिसकी मदद से किसान 35 रुपये प्रति घंटे की दर से अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं। यह सिस्टम सोलर पैनल से चलेगा, इसलिए इसमें डीजल या पेट्रोल की जरूरत नहीं पड़ेगी।

इस टेक्नोलॉजी को विकसित करनेवाले डॉ राजेंद्र एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एस. के. जैन ने कहा कि इसमें पंप को सोलर सिस्टम से जोड़ा गया है और उसे नाव में फिट कर दिया गया है। जिन किसानों के खेत नदी या तालाब के किनारे हैं, वे इस सिस्टम की मदद से नदी या तालाब से पानी निकालकर सिंचाई कर सकेंगे।

इसमें नाव में दो हॉर्स पावर क्षमता वाला समर्सिबल पंप लगाया गया है। एस. के. जैन ने कहा कि जिनके पास 8 से 10 एकड़ जमीन है, उनके लिए यह काफी फायदेमंद हो सकता है। एक बार सोलर पैनल लग गया, तो वह 20 से 25 सालों तक चलेगा वहीं, नाव का इस्तेमाल 10 सालों तक किया जा सकता है। इस तरह एक बार रुपये खर्च करने के बाद लंबे समय तक इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा। जैन के मुताबिक, इसके रखरखाव पर कोई खर्च नहीं आयेगा।


बाढ़ के बाद इस सिस्टम को कुछ किसानों को दिया जायेगा। वे इसका इस्तेमाल करेंगे और अगर उन्हें यह सुविधाजनक लगता है, तो दूसरे किसानों तक इसका लाभ पहुंचाया जायेगा। 

No comments:

Powered by Blogger.